sensex क्या होता है और ये कैसे काम करता है

sensex क्या होता है और ये कैसे काम करता है

what is sensex and how does it work

इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे sensex क्या होता है और इसमें उतार-चढ़ाव कैसे होता है sensex की शुरुआत bombay stock exchange BSE द्वारा 1 जनवरी 1986 को किया गया था

sensex में 30 कंपनियों के share मूल्यों में उतार-चढ़ाव का मूल्यांकन किया जाता है यह 30 कंपनियां मार्केट साइज के हिसाब से बहुत बड़ी अच्छी ब्रांड वैल्यू और आर्थिक रूप से मजबूत होती हैं

sensex क्या होता है और ये कैसे काम करता है

sensex में उतार-चढ़ाव की गणना कैसे की जाती है

BSE में सूचीबद्ध 30 कंपनियों के मार्केट capitalization की दैनिक आधार पर गड़ना की गई है

चलिए sensex में उतार चढ़ाव की गड़ना एक उदाहरण की सहायता से समझे

मान लीजिए कि अभी sensex 20 हजार के स्तर पर है सुविधा के लिए हम मान लेते हैं कि BSE में केवल दो रजिस्टर्ड कंपनियां हैं एक का नाम delta और दूसरी का नाम गामा है

माना के delta के 1 share का मूल्य ₹200 है और इसके पास कुल बकाया share 10000 हैं जबकि गामा के 1 share का मूल्य ₹500 है और उसके पास कुल बकाया share 750 हैं

इन दोनों कंपनियों के कारण BSE का कुल बाजार पूंजीकरण होगा 200 गुना 10,000 जमा 500 गुना 750 यानि 57 दशमलव 50 लाख रुपए

अब मान लीजिये की अगले दिन delta कंपनी के share की कीमत 25% बढ़कर ₹250 तक चढ़ती है और गामा कंपनी के share की कीमत 10% कम होकर 450 रुपए हो जाती है

sensex क्या होता है और ये कैसे काम करता है

अब इन नए share मुल्ल्यो पर BSE का कुल मार्किट पूंजीकरण होगा 250 गुणा 10000 जमा 450 गुणा 7500 यानि 58.75 लाख रूपए

दोनों कंपनियों के share के मुल्ल्यो में उतार चढ़ाव के कारण BSE का बाजार पूंजीकरण 2.17% की वृद्धि के साथ 58.75 लाख रूपए हो जाता है

इस कारन sensex 20434 पर पोहोच जायेगा जो 20000 से 2.17% ज्यादा है

इस प्रकार यदि दोनों कंपनी के share मूल्यों में कमी आ जाती है तो BSE का कुल बाजार पूंजीकरण भी कम हो जाएगा BSE में यह उतार-चढ़ाव हर मिनट पर होता है यदि कंपनियों के share की खरीदारी ज्यादा होती है तो सेंसेक्स ऊपर जाता है और यदि बिक्री ज्यादा होती है तो सेंसेक्स नीचे आता है

शेयर मार्केट में शेयर का क्या मतलब होता है चलिए जानते हैं

Leave a Reply